शांता न्यूज

प्रार्थना सभा में धर्मांतरण का आरोप, पुलिस बोली- आरोप बेबुनियाद

बाड़ी कस्बे के एक निजी स्कूल में रविवार को प्रार्थना सभा के जरिए धर्मांतरण की खबर से पुलिस-प्रशासन में हडक़ंप मच गया। विश्व हिंदू परिषद तथा बजरंग दल के पदाधिकारियों ने निजी विद्यालय में धर्म परिवर्तन किए जाने का आरोप लगाया।


धौलपुर: बाड़ी कस्बे के एक निजी स्कूल में रविवार को प्रार्थना सभा के जरिए धर्मांतरण की खबर से पुलिस-प्रशासन में हडक़ंप मच गया। विश्व हिंदू परिषद तथा बजरंग दल के पदाधिकारियों ने निजी विद्यालय में धर्म परिवर्तन किए जाने का आरोप लगाया। बताया जा रहा है कि विहिप व बजरंग दल के पदाधिकारियों ने विद्यालय में जाकर एक वीडियो बनाया और उसके आधार पर विद्यालय के प्रशासक पर धर्म परिवर्तन करने का आरोप लगाया है। उधर, सूचना पर पुलिस अधिकारी मौके पर निजी विद्यालय पहुंचे और आरोपों की पड़ताल की। अधिकारियों का कहना है कि धर्म परिवर्तन के आरोप बेबुनियाद हैं। यहां प्रार्थना सभा में केवल सामाजिक सुधार और व्यसन व कुप्रथाओं को छोडऩे को लेकर संदेश दिया जा रहा था। धर्मांतरण जैसा कोई मामला नहीं है।

विहिप व बजरंग दल का प्रार्थना सभा में धर्मांतरण का आरोप

बाड़ी प्रकोष्ठ के विश्व हिंदू परिषद तथा बजरंग दल के पदाधिकारी ने बाड़ी सीओ महेन्द्र सिंह से मिलकर एक प्रार्थना पत्र सौंपा। कहा कि कस्बे के एक निजी स्कूल में हर रविवार प्रार्थना सभा का आयोजन किया जाता है। जिसके माध्यम से लोगों का धर्म परिवर्तन करने का आरोप लगाया। आरोप को सिद्ध करने के लिए दोनों ही संगठनों की ओर से एक वीडियो भी दिखाई गई। जिस पर तुरंत पुलिस अधिकारी विद्यालय में पहुंचे और प्रबंधन से बात की। प्रबंधन ने सामान्य प्रार्थना सभा बताया। धर्म परिवर्तन के आरोपों को खारिज किया। विद्यालय प्रबंधन का कहना है कि प्रबंधन पिछले 25 वर्षों से एक धर्म विशेष के शिक्षक की ओर से चलाया जा रहा है। जो स्वयं तथा परिवार, रविवार के दिन अपने ईश्वर को याद करने के लिए एक प्रार्थना सभा रखते हैं। प्रार्थना सभा में किसी को भी नहीं बुलाया जाता लेकिन अगर कोई स्वेच्छा से आता है तो वह इसमें भाग ले सकता है। सभा के दौरान किसी का कोई भी धर्म परिवर्तन नहीं किया जाता और ना ही किसी को इसके लिए उकसाया जाता है।

नहीं हुआ धर्म परिवर्तन, आरोप बेबुनियाद

वहीं उक्त प्रार्थना सभा में पहुंचने वाले लगभग दर्जन पर लोगों से पुलिस ने बयान लिया। इन्होंने कहा कि इस प्रार्थना सभा में किसी भी प्रकार का कोई धर्म परिवर्तन नहीं किया जाता और ना ही पैसे दिए जाते हैं। कुछ लोगों ने कहा कि इस प्रार्थना सभा में आने से उन्हें मानसिक शांति अवश्य मिलती है। यही कारण है कि वे इसमें उपस्थित होते हैं। कार्यक्रम में आए सदस्यों ने कहा कि वह हिंदू है और हिंदू ही रहेंगे।

वही बाड़ी के सीओ महेन्द्र सिंह मीणा ने बताया कि शिकायत मिलने के बाद वे स्वयं विद्यालय पहुंचे थे। जहां उन्होंने प्रार्थना सभा का आयोजन करने वाले लोगों से जानकारी ली। यहां लोगों से पूछताछ की तो पता चला कि यहां कोई भी धर्म परिवर्तन जैसा काम नहीं होता मिला। मात्र समाज सुधार के लिए कुछ शिक्षाएं दी जाती हैं। जिसमें शराब छोडऩा, जल्दी जागना व ईश्वर के प्रति आस्था रखने जैसे सद्विचार शामिल हैं। धर्म परिवर्तन जैसा मामला नहीं है।

error: Content is protected !!