Home » बड़ी खबर: पहली बार गे सेक्स रैकेट का पर्दाफाश, 3 गिरफ्तार, 2 फरार, पढ़ें जोरदार समाचार
देश-विदेश

बड़ी खबर: पहली बार गे सेक्स रैकेट का पर्दाफाश, 3 गिरफ्तार, 2 फरार, पढ़ें जोरदार समाचार

शेयर करें-

मुंबई में पहली बार ‘गे सेक्स‘ रैकेट का भंडाफोड़ हुआ है। थाना मालवानी पुलिस ने इस मामले में तीन युवकों को गिरफ्तार किया है। यह गिरोह पिछले कई महीने से ऑनलाइन डेटिंग गे ऐप ‘ग्राइंडर’ के जरिए यह सेक्स रैकेट चला रहा था और ब्लैकमेलिंग भी करता था।गिरफ्तार आरोपियों की पहचान इरफान फुरकान खान (26), अहमद फारूकी शेख (24) और इमरान शफीक शेख (24) के रूप में हुई है। मामले के दो अन्य आरोपी फरार हैं। जांच में सामने आया है कि यह ऑनलाइन ऐप के माध्यम से ‘गे’ लोगों से संपर्क करते थे और उनसे पैसे लेकर सेक्स मुहैया कराने का वादा करते थे।आरोपियों ने एक कंपनी में अकाउंटेंट के तौर पर काम करने वाले 23 साल के एक शख्स को गे डेटिंग ऐप के जरिए अपने जाल में फंसाया था। उससे हर घंटे के हिसाब से एक हजार रुपए की मांग की गई। सब कुछ फाइनल होने के बाद पीड़ित, आरोपी द्वारा बताए पते पर पहुंचा और वहां पहले से मौजूद चार युवकों ने उसे बुरी तरह पीटा, उसका फोन, पर्स और कुछ आभूषण छीन लिए। यही नहीं आरोपियों ने उसे धमकाकर उसके एटीएम का पिन भी ले लिया।

आरोपियों ने पीड़ित का एक आपत्तिजनक वीडियो भी अपने फोन से तैयार किया और उसे इंटरनेट पर डालने की धमकी देकर वहां से चले गए। यही नहीं आरोपियों ने बोरीवली के रहने वाले पीड़ित से पैसे की डिमांड भी की। पैसे नहीं देने पर यह वीडियो पीड़ित के परिवार को दिखाने की धमकी भी दी थी। पीड़ित पैसे लाने के बहाने आरोपियों के चंगुल से आजाद हुआ और घर पहुंचकर परिवार के सदस्यों को आपबीती बताई। आरोपी भी पैसे लेने के लिए उसके साथ घर के बाहर तक पहुंचे थे।

परिवार वालों को दी जानकारी और दर्ज हुआ केस

इसके बाद आरोपियों ने देखा कि युवक अपने परिवार के कुछ सदस्यों के साथ घर से बाहर आ रहा है तो वे मौके से फरार हो गए। रविवार को पीड़ित परिवार के साथ MHB पुलिस स्टेशन पहुंचा और आरोपियों के खिलाफ केस दर्ज करा दिया। घटना मालवानी पुलिस स्टेशन इलाके में हुई थी, इसलिए पुलिस ने इस केस को मालवानी पुलिस स्टेशन को ट्रांसफर कर दिया।

शिकायत के बाद पुलिस ने तड़के आरोपियों के ठिकानों पर दबिश्ख देकर मास्टरमाइंड समेत तीन आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। इन्हें गिरफ्तार करने के लिए पुलिस ने इलेक्ट्रॉनिक सर्विलांस का सहारा लिया। आरोपियों को सोमवार शाम को बोरिवली मेट्रोपोलिटन मजिस्ट्रेट अदालत में पेश किया गया। यहां से कोर्ट ने उन्हें तीन दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया है।


शेयर करें-